तुम्हारे दिल की धड़कन को ,
अगर हम सुन नहीं पाये।
समझ लेना, हमारी शक़्ल में ,
फिर हम नहीं आये।।
*******************
तुम्हारे दर्द – ए – उल्फ़त से ,
नज़र जो नम न हो पायीं।
वो आँखे गैर की होंगी ,
ये आँसू कम  नहीं आये।।
*******************
मेरा अल्लाह तेरी रूह ,
मेरा सजदा तेरी चाहत।
मेरी हर नज़्म भी है तू ,
तेरी यादें मेरी दावत।।
*******************
मेरी हर जुफ्तज़ू में ,
तेरी इनायत की तलबग़ारी।
ग़मज़दा हूँ,  पर ख्वाहिश है ,
तुझे ग़म छू भी न पाये।।
********************
अकेले इस जहाँ से ,
इश्क़ में तेरे, जो लड़ पाये।
शिक़ायत और शिकवों से ,
कभी आगे न बढ़ पाये।।
********************
झुका वज़ूद,   हर सिम्त ,
तेरी बेवफ़ाईओं से है।
ज़माना जानता है ,
हम यहाँ बेदम नहीं आये।।
************************ जारी ।। ….

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Facebook
Facebook
YouTube
YouTube
LinkedIn