मधुर संगीत के पीछे , वो सुन्दर साज होता है !

मुहब्बत में कहाँ कब क्यूँ , कोई भी राज होता है !!
कहूं कैसे क्यूँ रूठे हो , नहीं मानोगे क्या अब तुम !
समर्पित हो जहाँ सब कुछ , वहाँ भला कब नाज होता है !!
दीवाना क्यूँ वो कहता है , वो पागल क्यूँ समझता है !
मोहब्बत कि नुमाइश क्यूँ , वो सरेआम करता है !!
वो मुझसे दूर कैसी है , मैं उससे दूर कैसा हूँ !
दिलों की आपसी बातें , क्यूँ वो नीलाम करता है !!
किसी को क्या फ़रक पड़ता , अगर हम जी नहीं पाते !
ज़माने की  जकारत का जहर , हम पी नहीं पाते !!
कहूं कैसे जमाने को , ज़माना क्यूँ न ये समझे !
दिलों की  दूरियों का ज़ख्म , कभी हम सी नहीं पाते !!
                                                         …………………जारी………।

2 thoughts to “कहूं कैसे (भाग दो)

  • lori ali

    shivam ji! 🙂
    pyara likha hai…
    waise ek baat kahu, mujheAnand Film ka ek dilouge yaad aa rha hai : babu Moshay! tumhare aankhe bata rahi hain ki koi hai….." 🙂

    Reply
  • shikha kaushik

    nice post …दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें .

    http://bhartiynari.blogspot.com

    शिखा कौशिक 'नूतन'

    Reply

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Facebook
Facebook
YouTube
YouTube
LinkedIn